Home - शारीरिक स्वास्थ्य - त्वचा सम्बन्धी बीमारियाँ - जान ले लेगी ये नीली नसें | VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY
VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY

जान ले लेगी ये नीली नसें | VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY

VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY : वेरीकोज वेन यानि पैरों या टांगों, जांघों, टखने इत्यादी के पास कभी नीली नसे बन जाती है. इन नीली नसों का आकर पैरों या टांगों पर बड़ा हो जाता हैं. कभी कभार बांह पर नीली नसें ज्यादा मात्रा में उभरी हुई होंगी और हाथ में सूजन भी आती होगी. गुच्छेनुमा उभरी हुई इन नीली नसों का जमाव छाती, गर्दन, बांह, पेट, जांघों, पैरों, टांगों हो सकता है. इस स्तिथी को थोडा गंभीरता से लें वरना लापरवाही जानलेवा हो सकती है.

VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY

नसें उभरी हुई क्यों होती है?

नसें शरीर के ऊपरी सतह पर स्थित शिराओं का जाल है, जो सामान्यता त्वचा पर ज्यादा उभार नहीं लेती हैं. अगर किसी वजह से शरीर के अंदर गहराई में स्‍थित शिराओं के अंदर रुकावट आ जाती है तो अशुद्ध खून अंदरुनी सतह में जमा होता रहता है जिससे त्वचा के नीचे स्थि‍त शिराओं में अशुद्ध खून की मात्रा ज्यादा होने से ये नीली नसें उभरकर बड़ी मात्रा में नील कलर की दिखाई देने लगती है.

vein 1812298 960 720 660x330 - जान ले लेगी ये नीली नसें | VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY

नसें उभरी हुई होने के कारण

  1. हृदय रोग और गठिया रोग की वजह से
  2. कोई ट्यूमर या कैंसर की गांठ से शिरा पर दबाव पड़ना
  3. आनुवंशिकता
  4. ज्यादा फिट कपडे एवं जुते पहनने से
  5. नसों के वाल्व ठीक से काम न करने के कारण
  6. मोटापा
  7. किडनी की बीमारियाँ
  8. क्रोनिक वीनस इन्सफीशियन्सी यानी सीवाआई का रोग
  9. डीप वेन थ्रोम्बोसिस यानी डीवीटी का रोग
  10. नसों में अधिक दबाव के कारण नसों के वाल्व खराब हो जाते है. जिसे खून के प्रवाह में रूकावट आ जाती है.

वेरीकोज वेन के लक्षण

  1. पैरों में सूजन
  2. बैचेनी
  3. खिंचाव
  4. स्किन के कलर में परिवर्तन
  5. चलने में परेशानी

अगर शरीर पर उभरी हुई नीली नसें हैं तो क्या करें?

  1. भारी वजन न उठाये
  2. लगातार एक की स्तिथी में बैठे या खड़े नही रहे
  3. मोटापा कम करे
  4. संतुलित आहार ले
  5. हलके हाथ से मसाज करे
  6. व्यसनों से दुरी बनाये
  7. फिट कपडे एवं जुते न पहने जंक फ़ूड, आइसक्रीम, अधिक शुगर का सेवन न करे
  8. रोजाना व्यायाम करे

Screenshot 1 1 660x330 - जान ले लेगी ये नीली नसें | VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY

वेरीकोज वेन आधुनिक इलाज

अगर अंदर स्थित शिराओं में स्थायी रुकावट होती है तो वेनस बाईपास सर्जरी का सहारा लेना पड़ता है. वेनस बाईपास सर्जरी में आइलिएक वेन बाईपास व आईवीसी बाईपास विधि प्रमुख है. इन ऑपरेशन में‍ शिराओं की रुकावट वाली जगह को बाईपास कर दिया जाता है जिससे अशुद्ध रक्त अबाध गति से ऊपर चढ़ता रहे. VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAYअगर शिराओं के कपाट बुरी तरह नष्ट हो चुके हैं तो वाल्वुलोप्लास्टी व एक्जीलरी वेन ट्रांसफर जैसी विशेष शल्य चिकित्सा की विधाएं अपनाई जाती हैं. VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAYअगर वैरिकोस वेन ज्यादा विकसित हो गई हैं और शिराओं में रुकावट नहीं है तो ‘फ्लेबेक्टमी’ नामक ऑपरेशन करना पड़ता है. VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY आजकल ऐसे मरीजों में लेसर तकनीक का भी सहारा लिया जाता है. लेसर तकनीक के अलावा एक और आरएफए नामक आधुनिकतम तकनीक आजकल बड़ी लोकप्रिय हो रही हैं. इसमें कोई सर्जरी नहीं करनी होती है और न ही टांगों की खाल में कोई काटा-पीटी करनी पड़ती है. मात्र 24 घंटे में अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है. VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY इस आरएफए उपचार के बाद मरीज अगले दिन से अपने ऑफिस या काम पर जाना शुरू कर देता है. कहीं कोई ड्रेसिंग कराने का झंझट नहीं और न ही उपचार के बाद घर पर आराम करने की जरूरत. VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAYयह तकनीक लेसर की तुलना में थोड़ी बेहतर साबित हो रही है. पर वेरिकोस वेन्स का मर्ज अगर बहुत ज्यादा नहीं बढ़ा है तो विशेष किस्म की क्रमित दबाव वाली जुराबें, विशेष व्यायामों व दवाइयों से ही स्थिति को नियंत्रण में लाने की कोशिश की जाती है. VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY


1 660x330 - जान ले लेगी ये नीली नसें | VARICOSE VEIN IN HINDI ILAJ UPAY

MUST READ:

Check Also

हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will keep healthy

हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will keep healthy

हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will keep healthy   हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

UA-110862200-1