Home - खान-पान - चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक! | Tea craze and its associated myth!
Tea craze and its associated myth!
Tea craze and its associated myth!

चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक! | Tea craze and its associated myth!

चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक!

Tea craze and its associated myth!

हमारे देश की प्राचीन ग्रंथों में कहीं भी चाय का वर्णन नहीं मिलता है. आमतौर पर चीन को चाय का जन्मदाता माना जाता है. जबकि भारत में अंग्रेजों के आने के बाद चाय लोकप्रिय हुई. अंग्रेजो ने चाय के उत्पादन को प्रोत्साहन दिया था. ईस्ट इंडिया कंपनी ने चाय बागानों को अपने हाथ में ले लिया और उनके द्वारा ही इंग्लैंड में चाय का पदार्पण हुआ. यूरोप में चाय का प्रचार 17वीं शताब्दी और 18वीं शताब्दी में हुआ था. वर्तमान समय में तो पूरा विश्व चाय का दीवाना हो गया है.

pexels photo 346885 660x330 - चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक! | Tea craze and its associated myth!
Tea craze and its associated myth!

चाय का उत्पादन

भारत में चाय का उत्पादन मुख्यत असम, बंगाल, बिहार, उत्तरप्रदेश, मैसूर, कोचिंग जैसे राज्यों में होता आया है. चाय की पत्तियां कई प्रकार की होती हैं. विभिन्न अलग अलग प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद पत्तियों के रूप परिवर्तन के बाद उसकी पैकिंग कर बंद किया जाता है और फिर यह घरों तक पहुंचती हैं. आज चाय का व्यापार बहुत ही फायदे का सौदा सिद्ध हो रहा है और लाभ देने वाला हो गया है. आज बाजारों में तरह-तरह की चाय पट्टी उपलब्ध है.

pexels photo 415779 660x330 - चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक! | Tea craze and its associated myth!
Tea craze and its associated myth!

चाय पिने के नुकसान

चाय एक मादक द्रव्य है चाय में टैनिंग नाम का विष वोलेन्टाइन होता है जो हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत घातक हैं. टेनिन के सेवन से कब्ज हो जाती है तथा पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है. पेट के कई प्रकार के रोग हो जाते हैं, नसों का सूजना, वीर्य का पतला हो जाना इत्यादि लक्षण दिखाई देते हैं.

वोलेन्टाइन द्रव्य:  द्रव्य में नींद को कम कर देने की शक्ति होती है इस कारण आंखों के कई प्रकार के रोग हो जाते हैं इसके अतिरिक्त अधिक चाय पीने से शारीरिक दुर्बलता आ जाती है तथा शुगर मधुमेह नामक रोग की संभावना अधिक हो जाती है दांत खराब हो जाते हैं और युद्ध कमजोर हो जाता है.

pexels photo 704217 660x330 - चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक! | Tea craze and its associated myth!
Tea craze and its associated myth!

चाय की लोकप्रियता

आज युवा हो या बुजुर्ग, पुरुष हो या महिला, गरीब हो या अमीर, मजदूर हो या राजा, बीमार हो या स्वस्थ सभी वर्गों के सभी लोग एक दिन में कई दफा चाय पीते हैं और मेहमानों तक को चाय पिलाना रिवाज हो गया है. विवाह हो या जन्मदिन, मौत हो या खुशी का दिन सभी उत्सवों में चाय पीने को मिलती है.

pexels photo 374592 660x330 - चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक! | Tea craze and its associated myth!
Tea craze and its associated myth!

चाय के लोकप्रिय होने के क्या कारण भी है, जैसे- चाय पीने से थकावट दूर होती है, मस्तिष्क को आराम मिलता है, सर्दी में गर्मी मिलती हैं और गर्मी में सर्दी का अनुभव होता है, बुढ़ापा दूर भागता है इत्यादि सब चाय के विषय में अलग प्रांतों में अलग धारणाएं है.

चाय क्यों पीते है?

चाय में मीठा होता है, उससे हमारे शरीर में कुछ समय के लिए उत्तेजना उत्पन्न होती है तब कुछ समय के लिए में थकावट अनुभव नहीं होती. इसके अतिरिक्त चाय को लोकप्रिय बनाने के अन्य कारण है, जैसे- दूध का महंगा हो ना, स्वाद, शीघ्र उपलब्धता, आदत, अन्य पिए जाने वाले पदार्थों से सस्ता, चाय के विज्ञापन में इस विषय पर बढ़ा चढ़ाकर दिखाना.
सभी नशे बुरे और स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं.

pexels photo 434213 660x330 - चाय की दीवानगी और उससे जुड़े मिथक! | Tea craze and its associated myth!
Tea craze and its associated myth!

अतः चाय का नशा भी बुरा है, चाहे वो चाय हो या कॉफी. कोको हो या कहवा सभी तरल पदार्थ उत्तेजना उत्पन्न करते हैं. इसलिए हमारे स्वास्थ्य को हानि पहुंचाते हैं अतः इन तरल पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए.


MUST READ:

Check Also

हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will keep healthy

हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will keep healthy

हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will keep healthy   हल्दी रखेंगी स्वस्थ।Haldi Rakhegi Swasth।Turmeric will …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

UA-110862200-1