headache1

जानिए, अपने सर दर्द को..!

सिरदर्द,  सिर, गर्दन या पीठ के उपरी वाले भाग में होने वाले दर्द को कहा जाता हैं. सिरदर्द की सामान्यत: कोई गंभीर वजह नहीं होती. कुछ घरेलू उपाय अपनाकर सिरदर्द से राहत मिल सकती है। लेकिन उससे पहले जाने सर दर्द के प्रकार को…

headache2 e1510640607494 - जानिए, अपने सर दर्द को..!

सिरदर्द के प्रकार

सिरदर्द 2 प्रकार का होता है:

पहला- प्राथमिक सिरदर्द जो सामान्य परिस्तिथियों में उत्पन्न होता है एवम सामान्य कारणों की वजह से होता है, जैसे- खोपड़ी की मसल्स में खिंचाव के कारण होने वाले सर दर्द को मसल्स टेंशन हेडेक, बार-बार मध्यम से गंभीर सिरदर्द के साथ-साथ मितली, उल्टी, फोटोफोबिया (प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता), फोनोफोबिया (ध्वनि संवेदनशीलता) शामिल हैं को माइग्रेन हेडेक तथा आँखों के ऊपरी भाग से शुरू होकर कानो के उपरी भाग (टेम्पोरल रीजन) की तरफ फैलता है को क्लस्टर हेडेक कहते हैं.

दूसरा- द्वितीयक सिरदर्द जो गंभीर परिस्तिथियों में उत्पन्न होता है एवम शरीर में मौजूद अन्य गंभीर बीमारियों की वजह से होता है. जैसे- ब्रेन ट्यूमर (कैंसर), उच्च रक्तचाप आदि.

सिरदर्द होने के कारण

  • मसल्स (पेशियों) में खिंचाव: ब्रेन की मसल्स में खिंचाव के कारण
  • नींद नही लेना: नींद पूरी न पाने से नर्वस सिस्टम प्रभावित होता है और खोपड़ी की मसल्स/पेशियों में खिंचाव होता है तथा सिरदर्द हो जाता है। समय पर खाना न खाने से शरीर में शुगर की कमी होती है और गैस बनती है, जिससे सिरदर्द हो सकता है।
  • ज्यादा शराब/अल्कोहल का सेवन से सिरदर्द हो सकता है।
  • शारीरिक तनाव: अत्यधिक शारीरिक मेहनत और टेबल या कंप्यूटर पर घंटों काम करना
  • अन्य बीमारियां जैसे कि कान, आंख, नाक और गले की तकलीफ भी सिरदर्द दे सकती है।
  • मानसिक तनाव: मूड ऑफ होने या ज्यादा सोचते रहना

क्या करे सिरदर्द होने पर

  • चिंता छोड़े : लाइफ स्टाइल सुधारे, अच्छी आदत डालें और चिंता को कम करने के लिए योग, मेडिटेशन, करे और चिंतामुक्त रहे.
  • शरीर में पानी की कमी से भी सिरदर्द हो जाता है। पानी और अन्य द्रव पीकर सिरदर्द को दूर किया जा सकता है।
  • भरपूर नींद लें कम-से-कम 6-8 घंटे की नींद लें।
  • किसी खास प्रकार के खाने से एलर्जी भी सिरदर्द का कारण हो सकती है, जिसके इस्तेमाल से सिरदर्द हो सकता है। उसको सेवन कम कर दे.
  • कैफीन ना ले: काम के तनाव से बचने के लिए लोग ज्यादा मात्रा में चाय, कॉफी आदि पीते रहते हैं, जिनमें कैफीन होता है। ज्यादा कैफीन लेने से सिरदर्द की संभावना बढ़ती है।
  • धुम्रपान और शराब : स्मोकिंग से शरीर में खून का प्रवाह प्रभावित होता है, जिससे पेशियों/मसल्स को पर्याप्त मात्र में रक्त नही पहुँच पाता है जिससे सिरदर्द हो जाता है। शराब/अल्कोहल को कम लें।

 घरेलू उपाय

– सोने से पूर्व नाक में गाय के देशी घी की 2-2 बूंदे डालें।

– एक मुनक्के के बीज निकालकर उसमें साबुत राई रख दें। सूर्य उगने से पहले कुल्ला करके पानी से मुनक्का निगल लें। 2-3 दिन ऐसा करें।

– सरसों तेल को कटोरी में लेकर सूंघें।

– सूर्योदय से पहले एक पिसी खांड़ पानी में घोलकर 2-3 दिन पीएं। डायबिटीज वाले इसे बिल्कुल न अपनाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

UA-110862200-1